2015 में चांदी का कुल आयात 7,759 टन अनुमानित
Last Updated  05:46 AM [30/12/2015]
चालू कैलेंडर वर्ष में देश में चांदी आयात का नया रिकॉर्ड बना सकती है। इसकी वजह यह है कि ग्राहक अन्य धातु से बने नकली आभूषणों एवं अन्य सामान की जगह चांदी के आभूषणों एवं सामान को तरजीह देने लगे हैं।कीमती धातुओं पर सलाह देने वाली सलाहकार कंपनी स्मॉलगोल्ड डॉट कॉम के आंकड़ों से पता चलता है कि इस साल जनवरी से सितंबर तक 5,819 टन चांदी का आयात हुआ है। हालांकि सालाना आधार पर कैलेंडर वर्ष 2015 में चांदी का कुल आयात 7,759 टन अनुमानित है, जो भारत का अब तक का किसी कैलेंडर वर्ष में सबसे अधिक आयात है और यह पिछले साल की तुलना में करीब 10 फीसदी अधिक है।कैलेंडर वर्ष 2014 के दौरान चांदी का कुल आयात 7083 टन रहा था। भारत में चांदी का बढ़ता आयात इसकी कीमतें गिरने के बाद पिछले तीन वर्षों में ग्राहकों की पसंद में भारी बदलाव का संकेत देता है। बीते वर्षों से इतर अब ग्राहक यह मानने लगे हैं कि आभूषण, शिल्पकृति और सिक्के एवं सिल्ली सहित किसी भी रूप में खरीदी गई चांदी को बेचा जा सकता है। इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मोहित कंबोज ने कहा, जनवरी से सितंबर तक आयात की मात्रा के रुझान से पता चलता है कि इस साल चांदी का आयात नया रिकॉर्ड बनाएगा।
गहनों को तरजीह
भारत में चांदी की ज्यादातर मांग आभूषणों और अन्य वस्तुओं के लिए आ रही है क्योंकि उपभोक्ताओं को लगता है कि चांदी को बेचकर अच्छी कीमत मिल सकती है। गिरती कीमतों की वजह से ग्राहक नकली आभूषण एïवं धातु की शिल्पकृतियों के स्थान पर चांदी के गहनों को तरजीह दे रहे हैं। वर्ष 2014 में 19.31 फीसदी की भारी भरकम गिरावट के बाद चांदी की कीमतें वर्ष 2015 में भी करीब 8 फीसदी लुढ़की हैं। इसका मतलब है कि जिंसों में गिरावट के कारण ग्राहकों के लिए चांदी किफायती हो गई है। पिछले दो साल में चांदी 26 फीसदी से अधिक टूटकर आज 14.62 डॉलर प्रति औंस पर आ गई, जो 1 जनवरी 2014 को 19.47 डॉलर पर थी।
सोना-चांदी में तेजी
अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमतों में गिरावट के बावजूद डॉलर के मुकाबले रुपए के टूटने से मंगलवार को जयपुर सर्राफा बाजार में सोना 100 रुपए चढ़कर 25,550 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया, जबकि औद्योगिक मांग उतरने से चांदी 400 रुपए लुढ़ककर डेढ़ सप्ताह के निचले स्तर 33,700 रुपए प्रति किलोग्राम पर आ गई। जेवराती सोने के भाव भी सौ रुपए तेज होकर 24,300 रुपए प्रति किलोग्राम पर आ गए। लंदन से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार को 0.5 प्रतिशत चढऩे के बाद सोना हाजिर चार डॉलर उतरकर 1072.6 डॉलर प्रति औंस बोला गया।हालांकि, फरवरी का अमेरिकी सोना वायदा 4.5 डॉलर की मजबूती के साथ 1072.8 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया। बाजार विश्लेषकों ने बताया कि कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से सोने पर दबाव पड़ा है। हालांकि, दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के टूटने से सोने को समर्थन भी मिल रहा है। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी हाजिर 0.33 डॉलर फिसलकर 13.99 डॉलर प्रति औंस पर आ गई। बंद भाव इस प्रकार रहे।चांदी रिफाइनरी 33,200, चांदी [999] [प्रति किलोग्राम] 33,700 रुपए। जेवराती सोना [प्रति दस ग्राम] 24,300 रुपए, 22/22 वापसी सोने का भाव 23,700, सोना [995] [प्रति दस ग्राम] 25,550 रुपए।

Add New Comment

 
 
 
 
 
 
POPULAR STORIES
BUSINESS AND FINANCE