साल 2015 में वैश्विक अर्थव्यवस्था को 74 अरब डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है।
Last Updated  12:05 PM [30/12/2015]

साल 2015 में वैश्विक अर्थव्यवस्था को 74 अरब डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है। ऐसा अनुमान आंधी, चक्रवात, भूकंप, बाढ़ और जंगलों में आग लगने जैसी प्राकृतिक आपदाओं से वजह से हुआ है।बीमा कारोबार करने वाली कंपनी स्विस री ग्रुप के अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में आए प्राकृतिक आपदाओं से वैश्विक अर्थव्यवस्था को 74 अरब डॉलर और मानवजनित आपदाओं से 11 अरब डॉलर का नुकसान हो सकता है।

इस प्रकार इन आपदाओं से कुल नुकसान 85 अरब डॉलर पर पहुंचने की आशंका है। रिपोर्ट के अनुसार, साल 2014 में आपदाओं से विश्व अर्थव्यवस्था को हुए 113 अरब डॉलर के नुकसान के मुकाबले 2015 में होने वाला नुकसान 24 फीसदी कम है पिछले साल के कुल नुकसान में 104 अरब डॉलर प्राकृतिक आपदाओं और नौ अरब डॉलर मानवजनित आपदाओं का नुकसान शामिल है। रिपोर्ट के मुताबिक इस साल बीमित नुकसान 32 अरब डॉलर रहने का अनुमान है, जो कि पिछले साल के 35 अरब डॉलर के मुकाबले 11 फीसदी कम है।आलोच्य अवधि में प्राकृतक आपदा में बीमित नुकसान 28 अरब डॉलर से घटकर 23 अरब डॉलर रह सकता है, जबकि मानवजनित आपदा के लिए बीमित नुकसान सात अरब डॉलर से बढ़कर नौ अरब डॉलर पर पहुंच सकता है।रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका में आया चक्रवात 2015 का सबसे अधिक नुकसान पहुंचाने वाली प्राकृतिक आपदा रही है। इसमें बीमित नुकसान दो अरब डॉलर होने का अनुमान है। नेपाल में अप्रैल में रिक्टर पैमाने पर 7.8 तीव्रता वाले भूकंप से नेपाल और पड़ोसी देशों को काफी नुकसान हुआ है। इसमें करीब नौ हजार लोग मरे वहीं लगभग पांच लाख घर क्षतिग्रस्त हुए।रिपोर्ट के अनुसार, भारत, पाकिस्तान, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और पश्चिम एशिया में गर्मी में तापमान बढऩे से करीब 5000 लोगों की मौत हुई। इसके अलावा उत्तरी अफ्रीकी देशों की उथल-पुथल के कारण वहां के लोगों के यूरोप की ओर पलायन के दौरान समुद्र में उनकी नौकाओं को क्षतिग्रस्त किए जाने से भी लाखो लोगों की जान गई।

Add New Comment

 
 
 
 
 
 
POPULAR STORIES
BUSINESS AND FINANCE